Email Subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Followers

Thursday, 23 January 2020

भोजपुरी के भूल गई लऽ...........- prakash sah

..........                     

भोजपुरी के भूल गई लऽ
तऽ फिर माई के दुलरूवा कइसन

आजही के दिन छोड़ गई लऽ
तऽ फिर माई के आंचरवा कइसन

सपनवा के पावे गई लऽ
तऽ फिर चैन के निनिया कइसन

आपन रूपवा भूल के
दोसरा के रूप ले ले लऽ
और लौटे के अइलऽ ना
तऽ खाली सोचला के फायदा कइसन

                                                           -prakash sah

------------******------------
click now 👇👇
Share on Whatsapp


आप अपनी बहुमूल्य प्रतिक्रिया नीचे👇 comment box में  जरूर दीजिए।

🙏🙏 धन्यवाद!! 🙏🙏


©prakashsah
UNPREDICTABLE ANGRY BOY
PRKSHSAH2011.BLOGSPOT.IN
P.C. : UAB

Wednesday, 8 January 2020

बस इतना ही समझिए..........-prakash sah

बस इतना ही समझो (Bass Itna Hi Samjho) - prakash sah - Unpredictable Angry Boy -  www.prkshsah2011.blogspot.com


हिंसा का जवाब अहिंसा नहीं
अहिंसा का जवाब हिंसा नहीं
       पर हिंसा का जवाब...हिंसा भी नहीं
और अहिंसा का जवाब
अहिंसा भी गैरजरूरी नहीं।

ना आज तक कोई हिंसा रोक पाया है
ना फिर कोई दूसरा गाँधी बन पाएगा
       हर कोई गाँधी का...चोला पहनकर
अहिंसा का झंडा थामे रखा है
ये भी बेफिजूली है, वो भी नामंजूर है

जो हो गया वो भी सही है
और
जो ना हुआ वो भी गलत है

                 बस इतना ही समझिए...!!!!

                                                  -prakash sah




------------******------------

click now 👇👇
Share on Whatsapp


अगर आपको मेरा ब्लॉग अच्छा लगा तो 
इसे FOLLOW और  SUBSCRIBE करना बिल्कुल ना भूलें।
इस ब्लाॉग के नए पोस्ट के NOTIFICATION को E-mail द्वारा पाने के लिए
अभी  SUBSCRIBE कीजिए👇
Enter your email address:


Delivered by FeedBurner

आप अपनी बहुमूल्य प्रतिक्रिया नीचे👇 comment box में  जरूर दीजिए ।

🙏🙏 धन्यवाद!! 🙏🙏


©prakashsah
UNPREDICTABLE ANGRY BOY
PRKSHSAH2011.BLOGSPOT.IN
P.C. : UAB

Wednesday, 1 January 2020

आप सभी को नव वर्ष की ढ़ेर सारी शुभकामनएँ.......prakash sah

जश्न इस बार नई होगी  ( JASHN ISS BAAR NAYI HOGI ) - prakash sah - Unpredictable Angry Boy -  www.prkshsah2011.blogspot.com


।। जश्न इस बार नई होगी ।।

**(4)**

दुआ दे दूँ, दुआ माँग लूँ
   हाथ जोड़ कर सिर झुका लूँ...
खुद को मैं बड़ा बना लूँ,
खुद को मैं छोटा बना लूँ
जिससे ना कोई मायने बनेंगे,
जिससे ना कोई दायरें बनेंगे।
सबका सम्मान बराबर, सबका हो मान बराबर
तब बढेंगे, तन बढेंगे, मन बढेंगे,
जहाँ को हम जन्म लिए, वहीं से जुड़े सदैव रहेंगे।
हाँ...शीघ्रता में देर होगी,
सर्द की रूग्ण भोर होगी,
स्वर की अमर गूंज वही होगी,
इस नव वर्ष की पहली किरण के संग
नए लोग मिलेंगे पर रश्म नई होगी।
साल भी वही है, सरहदें भी वही है
पर जश्न इस बार नई होगी
   पर जश्न इस बार नई होगी...
   पर जश्न इस बार नई होगी...

पूरी रचना यहाँ जरूर पढ़े...👇👇


------------******------------

🙏🙏 धन्यवाद!! 🙏🙏


©prakashsah

UNPREDICTABLE ANGRY BOY
PRKSHSAH2011.BLOGSPOT.IN
P.C. : google